पीलिया रोग के घरेलू उपचार - Raambaanilaj.com

Monday, 24 July 2017

पीलिया रोग के घरेलू उपचार

Piliya Ke Lakshan -पीलिया के लक्षण 
त्वचा और आंखों का पीलापन,     नींद बहुत आना ,     उल्टियां,    दाईं तरफ पेट में दर्द,   स्टूल में बदलाव,  पेशाब गहरे पीले रंग का आना,    कमजोरी , बदन में दर्द , थकान,     बुखार

 पीलिया होने पर चिकनाई ( घी , तेल ) , तेज मिर्च मसाले , उड़द चने की दाल , बेसन , तिल , हींग , राई , मैदा से बने सामान , तली वस्तु आदि।अशुद्ध बासी खाना , मांस ,
शराब , चाय कॉफी भी लें। तेज गर्मी से और अधिक शारीरिक मेहनत से बचना चाहिए

पीलिया होने पर साफ सुथरा गन्ने का रस , नारियल पानी , नारंगी या संतरे का रस , मीठे अनार का रस ,फालसे का जूस , फलों में चीकू , पपीता , खरबूजा , आलूबुखारा , पतली छाछ  चपाती बिना घी लगी खा सकते है। दलिया , जौ की चपाती या सत्तू , मूंग की दाल का पानी थोड़ा सा काला नमक  काली मिर्च डालकर ले सकते है। सब्जी में लौकी तोरई , टिण्डे , करेला , परवल , पालक आदि ले सकते है।


loading...

पीपल के कोमल पत्ते पीलिया में बहुत फायदेमंद साबित होते है। चार पांच पीपल के नए पत्ते ( कोंपल ) एक चम्मच मिश्री या शक्कर के साथ बारीक पीस लें इसे एक गिलास पानी में डालकर हिला लें। बारीक चलनी से छान ले। ये शरबत सुबह और शाम को दो बार पिएं। चार पांच दिन पीने से जरूर फायदा नजर आएगा। सात दिन तक पी सकते है।

मूली का वो हिस्सा जहाँ से पत्ते शुरू होते है यानि टहनी और पत्ते दोनों को पीसकर रस निकाल लें। आधा कप इस रस में एक चम्मच मिश्री मिलाकर सुबह खाली पेट पांच सात दिन पीने से पीलिया ठीक हो जाता है।

संतरे का रस सुबह खाली पेट रोज पीने से पीलिया में आराम मिलता है।

फिटकरी पीलिया से आराम पाने के लिए आपको फिटकरी को भूनना है उसके बाद उसका चूर्ण बना ले और दिन 2 से 4 बार छाछ के साथ उसका सेवन करे |

गोखरु की जड़-पीलिया से राहत पाने के लिए आपको गोखरु की जड़ का काढ़ा बना कर पानी के साथ दिन 3 से 4 बार पीना है जिससे की पीलिया के रोग में आपको काफी आराम मिलेगा |

त्रिफला- को पीसे और रात में उसको पानी में भिगो कर रख दे और उसको भिगोने के बाद रात भर ऐसे ही रखे रहने दे और सुबह उठ कर उसको पीये ऐसा आपको लगातार 15 से 20 दिन तक करना है |
नींबू का रस- पीलिया के मरीज़ो के लिए बेहद फायदेमंद होता है इसीलिए आप डेली दिन 4 से 5 बार कम से कम 20ml नींबू का रस पीना है जिससे की पीलिया जैसी बीमारी का इलाज हो जाता है |

धनिया के बीज को रातभर पानी में भिगो दीजिये और फिर उसे सुबह पी लीजिये। धनिया के बीज वाले पानी को पीने से लीवर से गंदगी साफ होती है।
एक गिलास पानी में एक बड़ा चम्मच पिसा हुआ त्रिफला रात भर के लिए भिगोकर रख दें। सुबह इस पानी को छान कर पी जाएँ। ऐसा 12 दिनों तक करें।
जौ आपके शरीर से लीवर से सारी गंदगी को साफ करने की शक्ति रखता है।
सरसों के तेल की खली १०० ग्राम का चूर्ण बना लें इस चूर्ण की चम्मच मात्रा१०० ग्राम दही में मिलाकर सुबह बजे लें स्वाद अनुसार नमक या चीनी भी डाल सकते है एक सप्ताह लगातार लेने से पीलिया मल मार्ग से बाहर निकलजायेगा..लेकिन घीतेल में तली चीजो से १० दिनो तक परहेज करें एक सप्ताह में पीलिया जड से समाप्त हो जायेगा 

टमाटर पीलिया के रोगी के बहुत लाभदायक होता है। एक गिलास टमाटर के जूस में चुटकी भर काली मिर्च और नमक मिलाएं। यह जूस सुबह के समय लें। पीलिया को ठीक करने का यह एक अच्छा घरेलू उपचार है। 

नीम के पत्तों को धोकर इनका रस निकाले। रोगी को दिन में दो बार एक बड़ा चम्मच पिलाएँ। इससे पीलिया में बहुत सुधार आएगा।

No comments:

Post a Comment

Thanks for Comment.

Popular Posts

loading...