सर्दियो में ऐसे करे अपने नन्हें -मुन्नों की देखभालǃ रहेगे सदा सवस्थ।- Baby Care in Winter - Raambaanilaj.com

Friday, 15 December 2017

सर्दियो में ऐसे करे अपने नन्हें -मुन्नों की देखभालǃ रहेगे सदा सवस्थ।- Baby Care in Winter

सर्दी का मौसम आते ही बच्चों में सर्दी जुकाम जैसी समस्या देखने को मिलती हैं। ऐसी समस्या न हो इसके लिए हर उम्र के लोगों को अपना ख़ास ख्याल रखना होता है। लेकिन जो नवजात शिशु Infants होते हैं उनका इस मौसम में बहुत ही ध्यान रखना पड़ता है। सर्दियों में ठंडी हवाओं के प्रकोप रहता हैं और शरीर को गर्म रखने के लिए बच्चों की मालिश करना बहुत जरूरी है। नहलाने से पहले बच्चों की मालिश करके यदि उन्हें कुछ देर धूप का लुत्फ उठाने के लिए बाहर बिठाया जाए तो यह बच्चों के लिए फायदेमंद होता है। सर्दी के मौसम में बच्चे अक्सर खांसी-जुखाम, तेज बुखार, न्यूमोनिया आदि से ग्रस्त हों। baby care tips in hindi  

जाते है । बदलते तापमान व वातावरण मे फैले जीवाणुओं से बचाव में इनकी रोग -प्रतिरोधक क्षमता कमजोर पड़ जातीहै । ऐसे में यह बहुत जरुरी हो जाता की हम अपने नन्हें-मुनो की देखभाल में थोडी सावधानी बरते । तो आइये जानते है अपने नवजात बच्चों को सर्दियों मे होने वाली बिमारियों और बचाव के तरीके।

बच्चों के रोग का पता कैसे लगाये
* अत्यथिक खांसी आना ।
* बच्चों की सांस तेज चलना अथवा पसली चलना ।
* दूध पीने में असमर्थता।
*छाती में घड़घड़ग्रहट अथबा सीटी सी आवाज आना ।
*चेहरेके आसपास पीलापन ।
इन लक्षणों के होने पर लापरवाही न बरते और तुरंत बाल रोग विशेषज्ञ की सलाह लें ।


बच्चों को सर्दियो में रोगों से बचाने के Ramban नूस्खें।
1. सरसों के तेल से बच्चे की शरीर पर मालिश करें. हमारे घरों में मालिश के लिए सरसों का तेल सबसे अधिक इस्तेमाल होने वाला तेल है. इस तेल की मालिश सर्दियों में बच्चों के लिए बहुत ही फायदेमंद होती है. लेकिन गर्मियों मैं इसका इस्तेमाल इतना लाभदायक नहीं होता है.
2. घर से बहार निकलने पर दस्ताने, मोजे, मफलर आदिका प्रयोग अवश्य करें । घर के अंदर है तो भी अपने बच्चें को  सदीं से बचा कर रखें।

3. शिशु को धूप में मालिश करना अच्छा रहता है, पर ध्यान रखें कि इस दौरान बाहर ठंडी हवा से न जकड़ जाए। 
4. ज्यादा ठंड हो तो टोपी/मफलर और ऊपर से हुड वाला जैकेट भी पहनाएं। वॉर्मर पहनाने के बाद ही पाजामा पहनाएं। ठंड कम हो तो पाजामे के नीचे वॉर्मर की जरूरत नहीं होती। 
5. बच्चे का नैपकिन समय समय पर बदलते रहें क्योंकि गिले नैपकिन से संक्रमण फैल सकता है।

6. सर्दियों में रोज 15 से 20 मिनट तक बच्चे को सुबह की धूप में जरुर टहलाये।

7. बच्चें को पूरी नींद लेने दें क्योंकि बच्चा जितना आराम करेगा उतना ही उसके स्वास्थ्य के ले अच्छा होगा।

8. बच्चे को समय समय पर मां का दूध दें क्योंकि मां का दूध शिशु की आहार पूर्ति हैं।

9. अगर बच्चे को डायरिया की समस्या हो जाती हैं तो उसे तुरंत ही डॉक्टर के पास लेकर जाएं।
10.  सर्दियों में बच्चों की मालिश के लिए जैतून का तेल भी  बहुत ही लाभकारी होता है. क्योंकि यह अपने सेहत भरे गुणों के लिए सबसे ज्यादा लोकप्रिय है. इस तेल को आहार में इस्तेमाल करने से कोलेस्ट्रॉल लेवल सही रहता है और बच्चों में एलर्जी की शिकायत भी नहीं होती है.

11. छोटे बच्चों को बड़ों के मुकाबले हमेशा एक कपड़ा ज्यादा पहनाएं, मसलन अगर आप दो कपड़े पहन रहे हैं तो बच्चों को 3 कपड़ों की जरूरत होगी। बच्चों के सिर, पैर और कानों को हमेशा ढककर रखना चाहिए। वे सिर और पैरों से ही ठंड की चपेट में आते हैं।

सर्दियों में ध्यान रखने योग्य बात
* मालिश हमेशा नीचे से ऊपर की ओर करनी चाहिए। असली मकसद खून के दौरे को दिल की तरफ ले जाना है। पैरों और हाथों पर नीचे से ऊपर की ओर मालिश करें। साथ ही, दोनों हाथों को सीने के बीच रखकर दोनों दिशाओं में दिल बनाते हुए मालिश करें।मालिश और नहाने के बीच 15 मिनट का गैप जरूरी है।
 1 year baby care tips in hindi 
शिशु का स्तनपान जारी रखें । बड़े बच्चों को तरल पदार्थ अतिरिक्त मात्रा मे पिलाये । साथ ही ठंडी हवा से भी बचाएं है बुखार होने पर उचित मात्रा में पैरासिटामॉल दी जा सकती है ।

*आमतौर पर नहलाने से पहले शिशु की मालिश करते है पर नहलाने के बाद भी मालिश करना और अधिक उपयोगी होता है, क्योकि तेल की यह परत नौनिहालों के लिए हीट इंसुलेटर का काम करेगी । नम्हें मुन्नो की मालिश गर्म कमरे में करें । एक समय पर आधे शरीरको मालिश करें । फिर उस भाग के कपडे पहनाने के बाद दूसरे भाग के कपडे हटाएं । इससे शरीरमॅ गर्मी बनी रोगी।


* सर्दो के मौसम में बची ' कोल्डडायरिया' के शिकार शीघ्र हो जाते है । इससे शरीर मेँ पानी की कमी बहुत जल्द हो जाती है । दस्त और उल्टी होने पर बालरोग विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें ।

*इस मौसम में अक्सर घर के सदस्यों को खासी-जुखाम हो जाता है । संक्रमित लोग शिशु से दूर रहें । फेस मास्क पहनें व साबुन से हाथ घोकर ही बच्चे के छुएं ।

*ब्लोअर या रूम हीटर का मुंह बच्चे के सामने न रखें, न ही उनके वहुत करीब रखें । बच्चे के सामने या करीब रखने पर उसे अत्यधिक गर्मी पहुंचेगी है एक औंर बात का विशेष ध्यान रखें, ब्लोअर या रूम हीटर से थोडी दूर पर एक गहरे बर्तन में पानी अवश्य रखें । इसकी भाप पूंरे कमरे मेँ नमी बनाएगी और इससे शिशु को सांस लेना सुखद रहेगा । sardiyo me skin care in hindi

*नवजात शिशु के बिस्तर में गर्म पानी की बोतल के इस्तेमाल से बचें । इससे उनके जलने का खतरा रहता है । बच्चें को प्रतिदिन थोडी देर व्यायाम कराये । शरीर की गर्मी बनाए रखने व अच्छी सेहत के लिए यह सर्वोत्तम उपाय है ।हवा से भी बचाएं है बुखार होने पर उचित मात्रा में पैरासिटामॉल दी जा सकती है ।
 child health care tips in hindi 

No comments:

Post a Comment

Thanks for Comment.

Popular Posts

loading...