गंगा जयंती पर मां गंगा दूर करेंगी भय, राशिनुसार ये उपाय करने से होगी हर इच्छापूर्ति

गंगा जयंती Image Source : TWITTER/MAYURRATAN24

आज वैशाख शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि और गुरूवार का दिन है। सप्तमी तिथि आज दोपहर 2 बजकर 47 मिनट तक रहेगी। उसके बाद अष्टमी तिथि लग जायेगी। फ़िलहाल बात करेंगे सप्तमी तिथि की- आज गंगा सप्तमी है। शास्त्रों के अनुसार आज ही के दिन गंगा जी की उत्पत्ति हुई थी, इसलिए इसे गंगा जयंती के नाम से भी जाना जाता है। आज के दिन मध्याह्न के समय माँ गंगा का विशेष रूप से पूजन करने का विधान है। कहते हैं गंगा सप्तमी के अवसर पर गंगा नदी में स्नान करने से व्यक्ति को जीवन में चल रही सभी समस्याओं का समाधान मिलता है और उसे जीवन में वैभव की प्राप्ति होती है। साथ ही स्वास्थ्य भी बेहतर होता है। लेकिन अभी कोरोना के वजह से जो स्थिति बनी है उसमे गंगा नदी में स्नान करना संभव नहीं है।

आचार्य इंदु प्रकाश के अनुसार आज आप अपने स्नान के पानी में गंगा जल की कुछ बूंदें डालकर, उसमें गंगा मैया का आवाह्न करके भी गंगा नदी में स्नान का लाभ पा सकते हैं। इससे आपको शुभ फलों की प्राप्ति होगी। गंगा पूजन के साथ ही आज के दिन दान-पुण्य करने का भी विशेष रूप से महत्व है। इससे व्यक्ति को जीवन में हर तरह के सुख-साधन प्राप्त होते हैं। 

वैशाख शुक्ल पक्ष की सप्तमी को निम्ब सप्तमी का भी खास महत्व है। आज के दिन सुबह स्नान आदि के बाद सूर्य देव की विधि-पूर्वक पूजा और नीम की ताजा पत्तियां ग्रहण करने का विधान है। यहां समझने की बात ये है कि इस समय नीम के पेड़ पर नये पत्ते, नयी कोंपलें आच्छादित होती हैं, जो कि स्वास्थ्य के लिये बहुत ही अच्छी मानी जाती है। इन्हें सुबह के समय खाली पेट पानी के साथ खाने से स्वास्थ्य संबंधी बहुत-से लाभ देखने को मिलते हैं। दरअसल नीम के पेड़ में एंटी बैक्टेरियल और एंटी सेप्टिक गुण मौजूद होते हैं, जो कि आपको कीटाणुओं से बचाते हैं। साथ ही आपकी त्वचा को साफ और स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। इसके अलावा नीम की ताजा कोंपलों का सेवन करने से पेट संबंधी परेशानियों से छुटकारा पाने में भी मदद मिलती है।

अतः आज के दिन आपको निम्ब सप्तमी का फायदा अवश्य ही उठाना चाहिए। साथ ही अगर संभव हो तो ये मंत्र भी पढ़ना चाहिए। मंत्र इस प्रकार है -निम्ब पल्लव भद्रं ते शुभद्रं तेऽस्तु वै सदा। ममापि कुरु भद्रं वै प्राशनाद् रोगहा भव  इससे आपके घर-परिवार की सुख-समृद्धि बनी रहेगी। 

आज के दिन पड़ने  वाले योग और नक्षत्र की-आज देर रात 1 बजकर 53 मिनट तक पुष्य योग रहेगा। यहां एक बात साफ कर दूं कि- जब गुरुवार को पुष्य नक्षत्र पड़ता है, तो ‘गुरु-पुष्य’ योग बनता है। ये योग विजय को दर्शाता है। इस योग में कोई विशेष कार्य करने से सफलता जरूर मिलती है। इस दिन किया गया कार्य आपकी हमेशा उन्नति ही करायेगा।  इसके आलावा देर रात 1 बजकर 53 मिनट तक पुष्य नक्षत्र रहेगा। नक्षत्रों की श्रेणी में पुष्य आठवां नक्षत्र है। इस नक्षत्र के दौरान शुभ कार्य करने से सफलता मिलती है। पुष्य का अर्थ होता है- पोषण करने वाला।

पुष्य नक्षत्र की राशि कर्क है। इस नक्षत्र के चारों चरण कर्क राशि में ही आते हैं। इस नक्षत्र के स्वामी शनि देव जी है। लिहाजा आज के दिन शनि के उपाय करना भी शुभ फलदायी होगा। साथ ही पुष्य नक्षत्र का प्रतीक चिन्ह गाय के थन को माना जाता है, जबकि इसका संबंध पीपल के पेड़ से बताया गया है। लिहाजा पुष्य नक्षत्र के दौरान जन्में लोगों को आज के दिन पीपल के पेड़ को हाथ जोड़कर प्रणाम करना चाहिए और उसे किसी भी प्रकार का नुकसान नहीं पहुंचना चाहिए और ना ही उससे बनी वस्तुओं को उपयोग में लाना चाहिए। आज के दिन ऐसा करने से आपको शुभ फलों की प्राप्ति होगी। 

घर के मुख्य द्वार पर रखें लॉफिंग बुद्धा, आर्थिक स्थिति होगी अच्छी

इसी बीच आज शाम 6 बजकर 47 मिनट पर चन्द्रमा और पुष्य नक्षत्र की युति होगी। चन्द्रमा और पुष्य नक्षत्र की ये युति बड़ी ही शुभ है। इस दौरान शुभ कार्य करने से सफलता मिलती है। साथ ही सोने-चांदी आदि सामान की खरीदारी करने के लिए भी चन्द्र-पुष्य युति बड़ा ही शुभ होता है। लेकिन यहां एक बात का ध्यान दीजिये कि- वर्तमान समय में ग्रह और नक्षत्र के संयोग में जो मुहूर्त एवं योग बन रहें है ये थी उनकी बात लेकिन कोरोना की वजह से जो स्थिति बनी है उसमे घर से बाहर निकलना सेहत के लिहाज से बिल्कुल ही अच्छा नहीं है। लिहाजा जितना हो सके घर पर ही रहें। 

आज पुष्य योग, पुष्य नक्षत्र और गंगा सप्तमी के संयोग में किये जाने वाले राशिवार उपायों की, जिसको करके आप अपने जीवन में चल रही समस्त कठिनाईयों से छुटकारा पा सकते है, अपने व्यापार की गति बढ़ा सकते है, कोर्ट-केस की उलझनों से मुक्ति पा सकते है, अपनी आमदनी बढ़ा सकते है तथा घर की सुख-सम्पदा में स्थायी रूप से बढ़ोत्तरी के लिये क्या उपाय करने चाहिए, आज हम इसकी चर्चा करेंगे। लेकिन यहां एक महत्वपूर्ण बात बता दूं कि- आज की ग्रह और नक्षत्र की स्थिति के अनुसार जिस राशि के लिए जो उपाय बताये जायेंगे उस राशि वालों के लिए वह उपाय विशेष फलदायी है, लेकिन बाकी राशि वाले लोग भी ये उपाय करके लाभ उठा सकते है-

मेष राशि

अगर मकान या किसी अन्य जमीन को लेकर आपका किसी से वाद-विवाद चल रहा है, वह आपकी कोई बात नहीं सुन रहा है तो इस सिलसिले में आगे की बात करने के लिये और अपना पक्ष मजबूत करने के लिये आज के दिन आपको पुष्य नक्षत्र के दौरान नीले या काले रंग के कपड़े पहनकर इस मंत्र का जाप करना चाहिए। मंत्र है -
‘ऊँ शं यो देवि रमिष्ट्य आपो भवन्तु पीतये, शं योरभि स्तवन्तु नः’ .ये अथर्ववेद दुर्गति निवारण का मंत्र है। चातनगण विधान की तरह ये भी बहुत प्रभावशाली है। अतः आज के दिन इस विशेष मंत्र का जाप करने से आपको मकान या किसी जमीन से संबंधित वाद-विवाद में जीत हासिल होगी। 

वृष राशि
अगर आपकी जिंदगी में कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है, आपके चारों ओर निगेटिविटी बहुत अधिक हो गई है, तो उस निगेटिविटी को अपनी जिंदगी से दूर करने के लिये आज के दिन पुष्य नक्षत्र के दौरान आपको स्नान आदि के बाद, साफ कपड़े पहनकर शनि देव के तंत्रोक्त मंत्र का 108 बार जप करना चाहिए। मंत्र इस प्रकार है-      
‘ऊँ प्रां प्रीं प्रौं स: शनैश्चराय नम:’
आज के दिन इस मंत्र का 108 बार जप करने से आपकी जिंदगी से निगेटिविटी दूर होगी और और जल्द ही सब कुछ ठीक हो जायेगा।

मिथुन राशि
अगर लाख परिश्रम के बाद भी आपको अपने कार्यों में सफलता नहीं मिल पा रही है तो आज के दिन पुष्य नक्षत्र के दौरान स्नान आदि के बाद पीपल के पेड़ का स्मरण करें और मन ही मन में पीपल के पेड़ को नमस्कार करके उसका आशीर्वाद लें। साथ ही शनि देव के इस मंत्र का 21 बार जप करें। मंत्र है -
‘ऊँ ऐं श्रीं ह्रीं शनैश्चराय नमः’
आज के दिन ऐसा करने से आपको अपनी मेहनत का उचित फल जरूर मिलेगा। 

कर्क राशि
अपने अन्दर समस्त शक्तियों का संचार करने के लिये, हर तरह की शक्ति पाने के लिये आज गंगा जयंती के दिन आपको गंगा स्तोत्र के इन पंक्तियों का जाप करना चाहिए। वो पंक्तियां इस प्रकार हैं-
ॐ नमः शिवायै गङ्गायै शिवदायै नमो नमः।
नमस्ते विष्णुरुपिण्यै, ब्रह्ममूर्त्यै नमोऽस्तु ते॥
 आज के दिन इन पंक्तियों का पांच बार जाप करने से ही आप अपने अन्दर अपार शक्तियों का संचार महसूस करेंगे। आप जो भी चाहेंगे, वो अवश्य पूरा होगा। 

सिंह राशि
अगर आपके मन में हर समय कोई न कोई उलझन बनी रहती है, जिसके चलते आप कुछ नया नहीं कर पा रहे हैं, तो अपने मन की शांति के लिये आज के दिन इन पंक्तियों का जाप करें। वो पंक्तियां हैं-
शांति सन्तान कारिण्यै नमस्ते शुद्ध मूर्त्तये।
सर्व संशुद्धि कारिण्यै नमः पापारि मूर्त्तये॥
आज के दिन इन पंक्तियों का जाप करने से आपको अन्दर से शांति महसूस होगी और आप अच्छे से अपने कार्य पूर्ण कर पायेंगे। 

कन्या राशि
अगर आपको घर में अग्नि या चोरी आदि का डर लगा रहता है, तो इन सब भय से अपने आपको बचाने के लिये आज के दिन एक कोरे कागज पर अपने हाथों से गंगा स्तोत्र लिखें और बाद में उस कागज को अच्छे से फोल्ड करके घर में किसी सुरक्षित स्थान पर रख दें। गंगा स्तोत्र आपको इंटरनेट पर आसानी से उपलब्ध हो जायेगा। आज के दिन ऐसा करने से आपको कभी भी अग्नि या चोरी आदि का भय नहीं होगा। 
 
तुला राशि
किसी पुरानी सवास्थ्य समस्या से छुटकारा पाने के लिए और अपने अच्छे स्वास्थ्य के लिये और लंबी आयु की प्राप्ति के लिये आज गंगा जयंती के दिन आपको इन पंक्तियों का जाप करना चाहिए। पंक्तियां कुछ इस प्रकार हैं-
संसार विष नाशिन्यै, जीवनायै नमोऽस्तु ते।
ताप त्रय संहन्त्र्यै, प्राणेश्यै ते नमो नमः॥
आज के दिन ये उपाय करने से आपको किसी पुरानी स्वास्थ्य संबंधी समस्या से छुटकारा मिलेगा और और आपको लंबी आयु की प्राप्ति होगी।

 वृश्चिक राशि
अगर आप चाहते है कि आपके मित्रों से आपकी मित्रता कायम रहे कभी कोई मनमुटाव ना हो और आपके जीवन में समृद्धि पाने के लिये आज के दिन आपको इस पंक्ति का जाप करना चाहिए-
नमस्ते विश्वमित्रायै नन्दिन्यै ते नमो नमः॥
आज के दिन इस पंक्ति का 21 बार जाप करने से लोगों से आपकी मित्रता कायम रहेगी और जीवन में आपको खूब समृद्धि मिलेगी। 

धनु राशि
अगर आप चहाते है की आपके परिवार में हमेशा सौहार्द बना रहे साथ ही परिवार की आर्थिक स्थिति मजबूत हो, तो आज के पुष्य नक्षत्र के दौरान आपको शनि देव के इस मंत्र का 108 बार जप करना चाहिए। मंत्र है -
‘शं ह्रीं शं शनैश्चराय नमः’
 आज के दिन शनिदेव के इस मंत्र का एक माला, यानी 108 बार जाप करने से आपके परिवार में सदैव सौहार्द बना रहेगा। साथ ही आपके परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी भी होगी। 
 
मकर राशि
अगर आपकी कोई विशेष इच्छा है, जो आप जल्द ही पूरी करना चाहते हैं, तो आज के दिन गंगा मैय्या का ध्यान करते हुए इस पंक्ति का जाप करें। वो पंक्ति है-
शान्तायै च वरिष्ठायै वरदायै नमो नमः॥
आज के दिन गंगा मैय्या का ध्यान करते हुए इस पंक्ति का जाप करने से आपकी इच्छा जल्दी ही पूरी होगी। 

कुंभ राशि
अगर आप अपने किसी राजनीतिक कार्य में सफलता पाना चाहते हैं या राजनीति में अपने विरोधी से आगे निकलना चाहते हैं तो आज के दिन आपको शनि स्तोत्र का पाठ करना चाहिए, लेकिन अगर आप पाठ न कर पाये तो इंटरनेट से इसका ऑडियो भी सुन सकते हैं। आज के दिन शनि स्तोत्र का पाठ करने या सुनने से आपको राजनीतिक कार्यों में सफलता मिलेगी, आप अपने विरोधियों से आगे निकलने में कामयाब रहेंगे।          

मीन राशि
अगर आपके बच्चें का मन पढ़ाई में नहीं लगता है और आप चाहते है की आपका बच्चा पढ़ाई में मन लगये साथ ही उसकी बौद्धिक क्षमता  में बढ़ोतरी करने के लिए। आज के दिन आपको शनि देव के इस मंत्र का 11 बार जप करना चाहिए। शनिदेव का मंत्र इस प्रकार है-
‘ऊँ श्रीं ह्रीं शं शनैश्चराय नमः’
 आज के दिन इस मंत्र का 11 बार जाप करने से आपके बच्चों का मन पढ़ाई में लगेगा साथ ही उनकी बौद्धिक क्षमता का विकास भी होगा। 



from India TV: lifestyle Feed https://ift.tt/3aVNhah
via IFTTT

Post a comment

0 Comments