महिलाओं की उलझन भरी जिंदगी को आसान बनाने के 5 नियम,  तनाव से आजाद होकर मजे से गुजारें जिंदगी

महिलाओं की ज़िंदगी में दौड़-भाग कभी कम नहीं हो सकती। तो क्यों न इन उलझनों को सुलझाने के कुछ नियम बनाएं ताकि आप तनाव मुक्त रहकर मजे से जिंदगी गुजार सकें। इसकी शुरुआत आज से ही करें।

1. ठहराव के दो पल
इसे पॉज़ कह सकते हैं। कुछ ख़रीदने से पहले, बाहर का कुछ खाने से पहले, किसी भी फ़ैसले से पहले पॉज़ लें और फिर अमल करें। कुछ लोग तो पार्किंग में वाहन खड़ा करके, दो मिनट सोचते हैं फिर बाहर आते हैं। ये दो मिनट का ठहराव उनके कामों की सूची ही दुरुस्त नहीं करता, उन्हें तनाव भुलाने में मदद भी करता है।

2. भोजन व्यवस्था सरल बनाएं
रसोई में जाकर सोच की मुद्रा अपनाने या घर के हर सदस्य के पीछे घूमकर क्या बनाऊं का फ़ैसला कराने के बजाय, सुबह ही तय कर लें कि तीनों समय क्या बनेगा। अपनी रसोई में सामान भी ऐसे ही जमाएं कि जो तय करें, उसकी सामग्री फटाफट मिले और आप भोजन बनाकर चिंतामुक्त हों।

3. दर्द के बिंदु की खोज
हम सबके पास तकलीफ़ पैदा करने वाले काम, लोग या रूटीन होते हैं। अपने दर्द का सिरा पकड़ते हुए, उसकी जड़ तक पहुंचे। एक बार पीड़ा के सिरे को जान लिया, तो समझने की तैयारी कीजिए कि किस काम, इंसान या वजह से आपको तकलीफ़ होती है। उससे बचकर रहें।

4. धीमी प्रगति से दोस्ती करें
ख़ुद पर कामयाबी का या जल्दी-जल्दी काम करने का दबाव न बनाएं। रोज़ जो कुछ सीख रही हैं, उसे कहीं लिखती जाएं। विकास मीलों की छलांग में भी है, तो एक सेंटीमीटर आगे बढ़ने में भी।

5. अपने नियम ख़ुद बनाएं
जीवन को सुलझा हुआ रखने में ये सबसे बड़ी मदद होगी। ख़ुद तय करें कि क्या करेंगी, क्या बिलकुल भी नहीं करेंगी। जैसे एक मां ने तय किया कि जब बच्ची सोएगी, तो वो मौक़े का फ़ायदा उठाकर कपड़े-बर्तन नहीं धोएगी, बल्कि अख़बार या किताब पढ़ेगी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
5 rules to make women's confused life easier, freedom from stress


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3hOtjll
via IFTTT

Post a comment

0 Comments