महिलाओं में लगातार बढ़ता तनाव बन रहा मेंटल डिसऑर्डर की वजह, साइकोथैरेपी और काउंसिलिंग से मिल सकती है निजात

विश्व में हो रहे अध्ययनों से पता चलता है कि आम जीवन में तनाव की मात्रा बढ़ गई है। वजह है कोरोनावायरस और उसके चलते पैदा हुए हालात।

अभी बीमारी का भय तो है ही, लगातार सतर्क रहने और सावधानियों का पालन करने की विवशता भी है। शारीरिक गतिविधियां कम हो गई हैं और ज़्यादातर वक़्त घर पर ही कट रहा है।

इन सब कारणों से मन पर तनाव हावी है, जिसकी परिणति बहसबाज़ी, चिड़चिड़ाहट, हताशा और ग़ुस्से के रूप में होती है।अक्सर हम सभी घर से बाहर कहीं घूमकर, दोस्तों से मिलकर तनाव दूर कर लेते हैं, लेकिन अभी इसमें अड़चनें हैं और यही सीमाएं मुश्किलें पैदा कर रही हैं ख़ासकर महिलाओं के लिए।

स्त्रियां क्यों हैं ज़्यादा प्रभावित
दरअसल, महिलाएं ज़्यादा भावुक और संवेदनशील होती हैं, इसलिए वे तनाव भी जल्दी लेती हैं। अपनी ज़िम्मेदारियों, रिश्तों, परिवार की वे अधिक परवाह करती हैं, उनके मन में बहुत कुछ चल रहा होता है। जब तनाव सहनशक्ति के बाहर हो जाता है, तो इसका परिवर्तित रूप शरीर और व्यवहार में दिखाई देने लगता है।

1980 से पहले भावनाओं के अनियंत्रित उबाल को ‘केवल स्त्रियों में होने वाला' हिस्टीरिया नामक मानसिक रोग माना जाता था। सिग्मंड फ्रायड ने इसे खोजा और परखा था।

वे महिलाएं जो तनाव, परेशानी और सदमे को कह नहीं पातीं, उनमें शारीरिक लक्षण उभरने लगते हैं, उसे अब कन्वर्शन डिसऑर्डर कहा जाता है।

कई तरह के तनाव हैं वजह
- पति-पत्नी के रिश्तों में दूरी, कड़वाहट महिलाओं को ज़्यादा प्रभावित करते हैं। इस तनाव के असर से कई दिक़्क़तें होती हैं।
- रिश्तों में शक या जीवनसाथी पहले की तरह ख़्याल नहीं रखता ऐसी निराशा से उपजा लंबा तनाव रोग का कारक बन सकता है।
- घरेलू झगड़े, पति के द्वारा शारीरिक व मानसिक ज़रूरतों की अवहेलना, घर में लगातार दुर्व्यवहार, प्रियजन की मृत्यु, सदमा, धनहानि, गंभीर आघात आदि कई कारण इस बीमारी की वजह बन सकते हैं।

ये हो सकते हैं लक्षण
- अचानक चिल्लाना, चिड़चिड़ाना या जल्दी ग़ुस्सा हो जाना जैसे सामान्य लगने वाले व्यवहार।
- तेज़ प्यास लगना, दिल की धड़कन बढ़ जाना, अजीब-सी घबराहट, सांस लेने में समस्या, मांसपेशियां अकड़ने लगना या एकदम शिथिल पड़ जाना भी लक्षण हैं।
- अचानक ज़ोर-ज़ोर से हंसना या रोना, चक्कर आना, पेट में हवा का गोला घूमता हुआ या गले में दबाव महसूस होता है।
- कई बार हिचकियां आती हैं, हाथ-पैर में ऐंठन होती है। कुछ मामलों में रोगी बेहोश भी हो जाते हैं।
हालांकि ज़रूरी नहीं है कि ये सारे लक्षण एक साथ दिखाई दें। लक्षण समस्या की गंभीरता पर भी निर्भर करते हैं। इन स्थितियों में मनोविशेषज्ञ से परामर्श करना बेहतर है।

शुरुआत में ही ज़रूरी समझ
तनाव के लम्बे समय तक बने रहने की समझ न हो तो ये धीरे-धीरे मानसिक रूप से कमज़ोर कर देता है। इसका याद्दाश्त पर भी असर पड़ सकता है।

भूख धीरे-धीरे कम होने लगती है या ख़त्म हो जाती है। ऐसे में समय रहते रोग प्रबंधन करना बेहद ज़रूरी है। ये मरीज़ की स्थिति के अनुसार दवाइयों, साइकोथैरेपी, काउंसलिंग, हिप्नोथैरेपी से होता है।

हम क्या कर सकते हैं
- अगर कोई परिजन बहुत नाराज़ हो, अजीब-सा व्यवहार करे, तो उसे नाटक समझकर उस पर ग़ुस्सा न करें। इससे उसका तनाव और बढ़ जाएगा। परेशानी को समझने की कोशिश करें।
- इस डिसऑर्डर से पीड़ित व्यक्ति की भूख कम हो जाती है, ऐसे में उसके खान-पान पर नज़र रखें। उसे छोटे-छोटे भाग में हर दो घंटे में खिलाएं और साथ बैठकर खाएं।
- परेशानी, तकलीफ को व्यक्त न कर पाने के फलस्वरूप उपजा तनाव भावनाओं का ऐसा ज्वार लाता है कि पीड़ित उसे संभाल नहीं पाता और अजीबो-ग़रीब व्यवहार करने लगता है।

इसीलिए किसी को भी भावनाएं व्यक्त करने से रोकें नहीं, न ही उसका मज़ाक बनाएं बल्कि उसे संभालकर, बात कहने दें। मन का ग़ुबार निकल जाने दीजिए।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Constant increasing stress in women can be the cause of mental disorder, psychotherapy and counseling can get relief


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3065zDe
via IFTTT

Post a comment

0 Comments