कमजोर व्यक्ति के साथ समझौता करके मनुष्य का होता है ऐसा हाल, चाणक्य की इस नीति में छिपा है सफलता का मंत्र

Chanakya Niti - चाणक्य नीति Image Source : INDIA TV

आचार्य चाणक्य की नीतियां और अनुमोल वचनों को जिसने जिंदगी में उतारा वो खुशहाल जीवन जी रहा है। अगर आप भी अपने जीवन में सुख चाहते हैं तो इन वचनों और नीतियों को जीवन में ऐसे उतारिए जैसे पानी के साथ चीनी घुल जाती है। चीनी जिस तरह पानी में घुलकर पानी को मीठा बना देती है उसी तरह से विचार आपके जीवन को आनंदित कर देंगे। आचार्य चाणक्य के इन अनुमोल विचारों में से आज हम एक विचार का विश्लेषण करेंगे। ये विचार दुर्बल के साथ किसी भी तरह की संधि न करने को लेकर है। 

मुश्किल वक्त में सबसे पहले साथ छोड़ती है इंसान की ये जरूरी चीज..., सही गलत का भी नहीं रहता ज्ञान

"दुर्बल के साथ संधि ना करें।"  आचार्य चाणक्य

आचार्य चाणक्य ने अपने इस कथन में दुर्बल के साथ किसी भी तरह की संधि न करने को कहा है। आचार्य चाणक्य का कहना है कि किसी भी व्यक्ति को किसी कमजोर व्यक्ति के साथ समझौता नहीं करना चाहिए। ऐसा करना उस वक्त तो आपको ठीक लग सकता है लेकिन बाद में हाथ में सिर्फ पछतावा ही लगता है। 

ऐसे गुण वाले व्यक्ति को ही सौंपे जिम्मेदार पद, वरना होगा बड़ा नुकसान, चाणक्य की नीति आज भी है कारगर

आमतौर पर कई बार ऐसा होता है कि व्यक्ति किसी कारण वश दुर्बल से समझौता कर लेता है। उसे ऐसा लगता है कि दुर्बल के साथ संधि करने पर वो उसे समय आने पर दबाव बना सकता है। लेकिन वो ये भूल जाता है कि दुर्बल व्यक्ति मौकापरस्त होता है। वो समय आने पर किसी भी दवाब के चलते सामने वाले व्यक्ति का साथ छोड़ सकता है। 

ऐसा होने पर न केवल वो अपने समझौते को भूल जाता है बल्कि सामने वाले व्यक्ति के साथ धोखा भी करता है। इसलिए कभी भी कमजोर व्यक्ति के साथ किसी भी तरह का समझौता नहीं करना चाहिए। अगर आप भी किसी कमजोर व्यक्ति के साथ समझौता अपनी किसी मंशा को पूरा करने के लिए करते हैं तो ऐसा बिल्कुल भी न करें। आचार्य चाणक्य के इस नीति के मुताबिक चलने में भी आपका फायदा होगा।  



from India TV Hindi: lifestyle Feed https://ift.tt/31F7TCD
via IFTTT

Post a comment

0 Comments