रविवार के दिन शिव-शक्ति की पूजा करने से आएगी सुख-संपत्ति, जानें प्रदोष व्रत की पूजा विधि, कथा

किसी भी प्रदोष व्रत में प्रदोष काल का बहुत महत्व होता है। त्रयोदशी तिथि में रात्रि के प्रथम प्रहर, यानि दिन छिपने के बाद शाम के समय को प्रदोष काल कहते हैं।

from India TV Hindi: lifestyle Feed https://ift.tt/3lu8y0W
via IFTTT

Post a comment

0 Comments