केट रूबिंस को दिया जाता है अंतरिक्ष में पहली बार डीएनए सीक्वेंसिंग का श्रेय, 14 अक्टूबर से लॉन्च होने वाले मिशन के लिए फ्लाइट इंजीनियर के तौर पर ले रहीं ट्रेनिंग

नासा की एस्ट्रोनॉट कैथलीन रूबिंस को केट रूबिंस के नाम से जाना जाता है। केट को 2009 में नासा ने चुना था। रूबिंस ने अपने अभियान 48/49 पर पहला स्पेस फ्लाइट पूरा किया। साथ ही पहली बार अंतरिक्ष में सफलतापूर्वक डीएनए सिक्वेंसिंग करने का कारनामा कर दिखाया। स्पेस में किसी लिविंग ऑर्गेनिज्म के डीएनए से जुड़ा यह काम अंतरिक्ष में इस दिशा में आगे किए जाने वाले कार्यों को प्रशस्त करता है।

केट ने मॉलिक्यूलर बायोलॉजी में यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया से बैचलर ऑफ साइंस की डिग्री ली। उसने कैंसर बायोलॉजी में पीएचडी की डिग्री स्टेनफोर्ड यूनिवर्सिटी मेडिकल स्कूल बायोकेमेस्ट्री डिपार्टमेंट और माइक्रो बायोलॉजी एंड इम्यूनोलॉजी विभाग से हासिल की।

फिलहाल वे स्पेस स्टेशन में फ्लाइट इंजीनियर के तौर पर ट्रेनिंग ले रही हैं ताकि 14 अक्टूबर 2020 में कजाकिस्तान में सोयूस एमएस-17 स्पेसक्राफ्ट का हिस्सा बन सकें।

वे 22 अक्टूबर को इस क्रू के धरती पर आने से पहले नासा के स्टेशन कमांडर क्रिस कैसिडी और कोस्मोनॉट्स आनाटोली ईवानिशिन को जॉइन करेंगी।

केट अगले माह होने वाले अंतराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन के मिशन में स्पेस स्टेशन की कोल्ड एटम लैब में कार्डियो वेस्कुलर एक्सपेरिमेंट करेंगी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Kate Rubins did DNA sequencing for the first time in space, to do Cardio Vascular Experiment in Cold Atom Lab as part of mission to be launched next month


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3mRurbu
via IFTTT

Post a comment

0 Comments