दिल्ली की कोमल 19 साल की उम्र में बनी गाइड, महामारी में की ट्रैवल कम्युनिटी की शुरुआत, अब टूरिज्म इंडस्ट्री में जेंडर गैप कम करने में जी-जान से जुटीं

कोमल दरीरा ये बात बहुत अच्छी तरह जानती हैं कि ऑटो रिक्शा वालों से मोलभाव करके पैसे कम कैसे करवाए जाते हैं। अगर दिल्ली में कोई विदेशी टूरिस्ट परेशान हैं तो उसका साथ कैसे दिया जा सकता है, उसे कौन से ऐतिहासिक स्थानों पर ले जाना चाहिए, टूरिस्ट के साथ बातचीत करने और उन्हें समझने की कुशलता ही कोमल को एक कामयाब गाइड बना सकी।

कोमल महज 19 साल की उम्र में इंटरपिड ट्रैवल की पहली वुमन अरबन एडवेंचर गाइड बनीं। वो भी तब जब वे इस जॉब के साथ अपनी पढ़ाई भी कर रहीं थीं। कोमल रोज लगभग 6 या 7 घंटे 10 लोगों को गाइड करने का काम करती हैं। वे हफ्ते भर इस काम को करते हुए कभी थकान महसूस नहीं करतीं। दिल्ली के भीड़-भाड़ वाले इलाके हों या शांत माहौल टूरिस्ट को गाइड करते हुए वे देखी जा सकती हैं।

कोमल रोज लगभग 6 या 7 घंटे 10 लोगों को गाइड करने का काम करती हैं।

जब कोमल ये यह पूछा जाता है कि अपनी गाइड जर्नी के दौरान कोई ऐसा अनुभव जो आपको डरा देने वाला हो तो वे दिसंबर 2015 की वो रात याद करती हैं जब वे एक ऑटो रिक्शा में बैठकर काम से निपटने के बाद घर जा रहीं थीं। तब रात के लगभग 10 बजे थे। ऑटो वाले ने कुछ दूर ले जाकर ऑटो रास्ते में रोक दी और उन्हें नीचे उतरने को कहा।

वे कहती हैं जब ''मैंने उससे वजह पूछी तो वह कहने लगा कि मुझे सिगरेट पीना है। दरअसल उस वक्त उसने शराब पी रखी थी। फिर वह जोर से चिल्लाने लगा और मैं ऑटो से उतर गई। वह बीच रास्ते में मुझे छोड़कर चला गया। मैं जिस जगह खड़ी थी, वहां से मेरा घर 15 किमी दूर था। सुनसान रास्ते को अकेले काटना मेरे लिए मुश्किल हो रहा था।''

कोमल ने अपने ऑफिस या दोस्तों को फोन लगाया लेकिन किसी से बात नहीं हो पा रही थी। कुछ देर बाद इंटरपिड के मैनेजर से बात हो पाई। वह जल्दी ही कोमल के पास टैक्सी से पहुंचे और उसे घर तक पहुंचाया।

कोमल के करिअर को सफल बनाने में उनकी नानी का अहम योगदान रहा है।

उस वक्त कोमल को ये समझने में देर नहीं लगी कि अगर सही वक्त पर उनके मैनेजर ने मदद नहीं की होती तो उस रात उनके लिए 15 किमी का सफर करना कठिन था जहां उसके साथ कुछ भी हो सकता था।कोमल चाहे घर देर से पहुंचे या अपने काम की वजह से देर रात तक जागती रहे, उनका किसी ने हमेशा साथ दिया है तो वो 69 साल की उनकी नानी हैं।

कोमल अपनी नानी की तारीफ करते नहीं थकती। उन्हीं के सहयोग की वजह से कोमल अपने करिअर में सफल रही हैं। साथ ही अपनी कंपनी इंटरपिड को अपनी सफलता का श्रेय देती हैं जिसकी वजह से वे एक कॉन्फिडेंट लीडर बन सकीं।

अरबन एडवेंचर में अपने बेस्ट परफॉर्मेंस की वजह से उन्हें 'टॉप परफॉर्मर ऑफ द ईयर' अवॉर्ड से सम्मानित किया जा चुका है। कोमल कहती हैं ''टूरिज्म एक ऐसा क्षेत्र है जहां काम करते हुए मुझे अपने शहर के बारे में विदेशियों को बताने का मौका मिला। मैंने हर पल नए अनुभव किए और उनसे बहुत कुछ सीखा। जिंदगी को लेकर मेरा नजरिया बदलने में टूरिज्म का खास योगदान रहा है''।

कोमल को इस बात की खुशी है कि उनके गाइड के तौर पर काम करने के बाद दिल्ली में महिला गाइड की संख्या बढ़ी है।

26 की उम्र में वॉइस ऑफ इंडिया टूरिज्म और इंस्टीट्यूट ऑफ टूरिज्म स्टडीज यूनिवर्सिटी, लखनऊ की सबसे युवा गेस्ट स्पीकर बनीं। कोमल ने अपनी मेहनत के बल पर टूरिज्म के क्षेत्र में होने वाले जेंडर गैप को कम करने का प्रयास किया है। उन्हें इस बात की खुशी है कि उनके गाइड के तौर पर काम करने के बाद दिल्ली में महिला गाइड की संख्या बढ़ी है।

कोमल कहती हैं ''इस क्षेत्र में आने वाली हर लड़की से मैं कहना चाहती हूं कि मेल गाइड की तरह यह फीमेल गाइड के लिए भी एक यादगार लम्हा होता है जब वह गाइड बनकर अपने देश की धरोहर, सभ्यता और संस्कृति के बारे में टूरिस्ट को बताती हैं। इस काम को करके जो खुशी मिलती है, वो अद्भुत है।'' कोमल अपने काम को एक थैरेपी और हर पल कुछ सीखने का जरिया मानती हैं।

कोमल अपने घर में मां, दादी और कुछ टूरिस्ट के साथ।

कोमल को इस बात की खुशी है कि घर के हर बड़े फैसले उससे पूछकर लिए जाते हैं। जब कोमल के पापा से एक पड़ोसी ने ये पूछा कि आपकी लड़की गाइड का काम क्यों करती है? क्या आपके पास इतने पैसे नहीं थे कि उसे पढ़ा-लिखाकर आप डॉक्टर या इंजीनियर बनाते? तो उसके पापा ने गर्व के साथ कहा, ''मुझे उसके काम से इसलिए एतराज नहीं है क्योंकि वो खुद इस काम से खुश है।''

जब कोई कोमल की शादी के बारे में उनके मम्मी-पापा से बात करता है तो वे कहते हैं, ''कोमल हमारी बेटी नहीं, बेटा है। वो अपनी मर्जी से हर फैसला ले सकती है।'' अपने मम्मी-पापा का कोमल पर भरोसा देखकर उन्हें बहुत खुशी होती है। कोमल के लिए ये छोटी-छोटी सी बातें भी बहुत मायने रखती हैं।''

कोमल ने अपनी दोस्त सृष्टि के साथ मिलकर एक ट्रैवल कम्युनिटी की शुरुआत की है।

कोमल चाहती हैं कि पुरुष प्रधान मानी जाने वाली टूरिज्म इंडस्ट्री में ज्यादा से ज्यादा महिलाएं आएं। यहां काम करने वाले वर्कर्स को लड़का या लड़की होने की वजह से नहीं बल्कि उनकी योग्यता के बल पर काम मिले। टूरिज्म कंपनीज को इस दिशा में प्रयास करने की जरूरत है ताकि अन्य क्षेत्र की तरह यहां भी महिलाओं का वर्चस्व हो।

टूरिज्म के क्षेत्र में काम करते हुए कोमल को इस बात का अहसास है कि यहां काम करने वाली महिलाएं किन दिक्कतों का सामना करती हैं। कोमल ने अपनी दोस्त सृष्टि के साथ मिलकर एक ट्रैवल कम्युनिटी की शुरुआत की है जिसे 'वुमन फॉर वर्ल्ड' नाम दिया है।

वे चाहती हैं उनके इस प्रयास से सारी दुनिया की महिलाओं की रियल स्टोरी लोगों के सामने आए। इससे अन्य महिलाओं को भी कुछ कर दिखाने की प्रेरणा मिलेगी।

कोरोना काल में कोमल टूरिज्म को बढ़ावा देने का प्रयास कर रही हैं।

अगर कोरोना काल के दौरान टूरिज्म इंडस्ट्री की बात हो तो ये हम सभी जानते हैं कि इस महामारी का विपरीत प्रभाव जिन क्षेत्रों में हुआ है, उसमें टूरिज्म इंडस्ट्री भी शामिल है। टूरिज्म इंडस्ट्री के जरिये रोजगार पाने वालों की नौकरी बचाने के लिए आप इस साल के अंत या अगले साल के लिए अच्छी होटल्स या टूरिस्ट स्पॉट्स में बुकिंग करें ताकि वहां काम करने वाले कर्मचारियों की नौकरी बच सके। इस वक्त जब आप सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए घर में हैं तो वर्चुअल वर्ल्ड की सैर कर टूरिज्म के प्रति अपने साथ-साथ बच्चों की भी जानकारी बढ़ाएं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Delhi's gentle 19-year-old guide, travel community in epidemic 'Woman for the World' is trying to reduce the gender gap in the tourism industry


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3mXv3ML
via IFTTT

Post a comment

0 Comments